हवन विधि इन हिंदी | Hawan Vidhi In Hindi | Hawam Kaise Kare

0
73
हवन विधि इन हिंदी

हवन विधि इन हिंदी | Hawan Vidhi In Hindi

हिंदू धर्म में हवन करने को एक अहम दर्जा प्राप्त है। हवन के बिना कोई भी पूजा पूर्ण नहीं मानी जाती है। लगभग भारत के सभी घरों में हवन किया जाता है। आमतौर पर हवन के लिए एक पंडित को बुलाया जाता है, जिसके बाद घर के लोग हवन कर पाते हैं, लेकिन कोरोनावायरस के चलते आज के समय में बाहर से किसी भी व्यक्ति को अपने घर में बुलाना खतरे से खाली नहीं है।

लेकिन दोस्तों यदि आप पंडित को घर पर नहीं बुला सकते, तो क्या हुआ। आज के इस आर्टिकल में हम आपको ” हवन विधि इन हिंदी ” के बारे में पूर्ण जानकारी देंगे और साथ ही साथ आपको हवन सामग्री के बारे में भी बताएंगे।


जानिए हवन की सामग्री :


नवरात्रि के समय में पूजा करने के बाद हवन करने का रिवाज है। ना केवल नवरात्रि बल्कि किसी भी खास पूजा को करने के लिए अंत में हवन करना अत्यंत महत्वपूर्ण होता है।

हम अपने पुराण वेदों की मानें तो हवन के पांच प्रकार होते हैं :ब्रह्म यज्ञ, देव यज्ञ, पितृयज्ञ, वैश्वदेव यज्ञ और अतिथि यज्ञ। इन सब में से केवल ” देव यज्ञ ” को ही अग्निहोत्र कर्म माना गया है और इसीलिए ” देव यज्ञ ” को ही हवन कहते हैं।

आमतौर पर यह सभी यज्ञ पंडित विधिविधान तरीके से करवाते हैं। यह यज्ञ बिना पंडित के करना कोई मुश्किल की बात नहीं है। आप केवल कुछ सामग्री इकट्ठा करके स्वयं ही यज्ञ कर सकते हैं।

वेद पुराणों में यह भी लिखा है, कि यह यज्ञ करना घर को शुद्धिकरण करने का कर्मकांड है। अग्निहोत्र कई प्रकार के होते हैं। खासतौर पर दुर्गा पूजा के समय पर यह देवी को अर्पण होते हैं।

कुंड में अग्नि के माध्यम से देवता के निकट हवि पहुंचाने की प्रक्रिया को यज्ञ कहते हैं। हवि, हव्य अथवा हविष्य वे पदार्थ हैं, जिनकी अग्नि में आहुति दी जाती है। ( जो अग्नि में डाले जाते हैं। )

यदि हम हवन कुंड की बात करें, तो इसका अर्थ होता है, अग्नि का निवास। हवन कुंड में हम अग्नि प्रज्वलित करते हैं और फिर इस पावन अग्नि में हम फल, शहद, घी, काष्ठ इत्यादि पदार्थों की आहुति दे देते हैं।

दोस्तों, हवन करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण होता है, हवन कुंड। आजकल बाजार में बने बनाए हवन कुंड मिल जाते हैं, पीतल का या कांसे का हवन कुंड आपको आसानी से बाजारों में मिल जाएगा। हवन कुंड कई साइज के भी होते हैं। आप छोटा या बड़ा जैसा भी हवन कुंड चाहे ले सकते हैं l

यदि आपके पास हवन कुंड उपलब्ध नहीं है, तो आपको घबराने की जरूरत नहीं है। आप घर पर चार इंटे रखकर भी हवन कुंड बना सकते हैं या फिर आप गोबर और मिट्टी के लेप से भी हवन कुंड बना सकते हैं। बस आपको इस बात का ध्यान रखना होगा, कि हवन कुंड चौकोर हो। हवन कुंड मिल जाने के पश्चात आप इसके चारों ओर धागा लपेट लें और फिर इस पर स्वास्तिक बनाकर इसमें अग्नि प्रज्वलित कर सकते हैं।

हवन विधि इन हिंदी | Hawan Vidhi In Hindi | Hawan Kaise Kare

हवन करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण है, आपके आस-पास की जगह एवं पूजा करने वाली जगह , इन दोनों को पूरी तरह से स्वच्छ रखें। सबसे पहले आप रोज की तरह ही पूजा कर ले और फिर अग्नि प्रज्वलित करें।

आप हवन कुंड में आम की लकड़ियों का चौकोर बनाकर रख दें और फिर कपूर की सहायता से इसे जला दें। हवन कुंड में अच्छी तरह से अग्नि की उत्पत्ति होने दें और फिर निम्नलिखित मंत्रों का जाप करते हुए अग्नि में आहुति दें।

हवन विधि इन हिंदी :-

  1. आग्नेय नम: स्वाहा (ॐ अग्निदेव ताम्योनम: स्वाहा)
  2. ॐ गणेशाय नम: स्वाहा।
  3. ॐ गौरियाय नम: स्वाहा।
  4. ॐ नवग्रहाय नम: स्वाहा।
  5. ॐ दुर्गाय नम: स्वाहा।
  6. ॐ महाकालिकाय नम: स्वाहा।
  7. ॐ हनुमते नम: स्वाहा।
  8. ॐ भैरवाय नम: स्वाहा।
  9. ॐ कुल देवताय नम: स्वाहा।
  10. ॐ स्थान देवताय नम: स्वाहा
  11. ॐ ब्रह्माय नम: स्वाहा।
  12. ॐ विष्णुवे नम: स्वाहा।
  13. ॐ शिवाय नम: स्वाहा।
  14. ॐ जयंती मंगलाकाली भद्रकाली कपालिनी
  15. दुर्गा क्षमा शिवाधात्री स्वाहा स्वधा नमस्तुते स्वाहा।
  16. ॐ ब्रह्मामुरारी त्रिपुरांतकारी भानु: शशि: भूमि सुतो बुधश्च:
  17. गुरुश्च शुक्रे शनि राहु केतो सर्वे ग्रहा शांति कर: भवंतु स्वाहा।
  18. ॐ गुरुर्ब्रह्मा, गुरुर्विष्णु, गुरुर्देवा महेश्वर: गुरु साक्षात परब्रह्मा तस्मै श्री गुरुवे नम: स्वाहा।
  19. ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिंम् पुष्टिवर्धनम्/ उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् मृत्युन्जाय नम: स्वाहा।
  20. ॐ शरणागत दीनार्त परित्राण परायणे, सर्व स्यार्ति हरे देवि नारायणी नमस्तुते।

हवन पूरा हो जाने के बाद आप इसके चारों ओर पानी घुमा दे। अग्नि माता को आहुति देने के बाद इसे दक्षिण दिशा की ओर रख दें। इसके बाद हाथ जोड़कर हवन में हुई गलतियों के लिए परमात्मा से माफी मांगे और अपने परिवार सहित आरती करके पूजा को संपन्न करें।

इस तरह से आप घर में बगैर पंडित के पवन कर सकते हैं।


For More Info Watch This:


अंतिम शब्द :-

तो दोस्तों, आज हमने आपको घर पर ही हवन करने से संबंधित पूर्ण जानकारी दी। आप ऊपर बताए गए तरीकों व मंत्रों का जाप करके आसानी से घर पर ही हवन कर सकते हैं। उम्मीद करते हैं, कि आपको हमारे यह आर्टिकल ” हवन विधि इन हिंदी “ पसंद आया होगा। इसे लाइक व शेयर करना ना भूलें ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here