Computer Chalana Sikhe , कंप्यूटर चलाना कैसे सीखे।

0
20
Computer Chalana Sikhe

कंप्यूटर चलाना कैसे सीखे:- कंप्यूटर एक ऐसा उपकरण है , जिसका उपयोग हर क्षेत्र में किया जाता है। यह हमारे दिन प्रतिदिन के कार्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

आज ऐसा कोई भी क्षेत्र नहीं है , जहां कंप्यूटर का यूज ना किया जा रहा हो। बैंकिंग सेक्टर, सरकारी विभाग, हॉस्पिटल, व्यापार,व्यवसाय, शिक्षा आदि सभी जगहों पर कंप्यूटर बहुत अहम भूमिका निभाता है। इसलिए हम सभी को कंप्यूटर के बारे में जानना Or Computer Chalana Sikhe बहुत जरूरी है।

आज हम आपको कंप्यूटर के बेसिक चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं। अगर आप यह सोचते हैं , कि कंप्यूटर चलाना बहुत ही मुश्किल काम है , तो इस मुश्किल काम को हम आपके लिए सरल बना देंगे, बस आपके अंदर कंप्यूटर सीखने की लालसा होनी चाहिए|

आज के इस पोस्ट में हम आपको सबसे पहले कंप्यूटर के कुछ इंपॉर्टेंट पार्ट्स ( Computer Chalana Sikhe ) के बारे में बताएंगे , उसके बाद कंप्यूटर चलाना सिखाएंगे, ताकि आपको किसी भी तरह का कन्फ्यूजन ना रहे।



कंप्यूटर के बारे में बेसिक जानकारी ( Computer Chalana Sikhe In Hindi ):- 

  1. मॉनिटर
  2. सीपीयू
  3. माउस
  4. कीबोर्ड
  5. प्रिंटर
  6. यूपीएस

1 :- मॉनिटर: सामान्य शब्दों में कहें तो मॉनिटर लगभग टीवी के तरह ही दिखता है। कंप्यूटर में हम जो भी काम करते हैं , उसे इसी मॉनिटर में देख सकते हैं। टेक्निकल शब्दों में कहें , तो यह एक डिस्प्ले यूनिट है। इसे आउटपुट डिवाइस कहते हैं।

2:- सीपीयू (CPU): CPU का पूरा नाम सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट है। इसे कंप्यूटर का माइंड भी कहा जाता है।

बहुत से यूनिट से मिलकर सीपीयू बना होता है, जिसमें से मेमोरी, कंट्रोल यूनिट,मदर बोर्ड,अर्थमेटिक लाजिक यूनिट, एसएमपीएस मुख्य हैं। इन सभी का अपना अलग अलग काम होता है।

3:- माउस: जब कभी हम कंप्यूटर में काम करते है , तो हमे एक एरो दिखाई देता है। इस एरो को हम मॉनिटर में हर जगह घुमा सकते है पर इसे घूमने के लिए हमे जिस डिवाइस का यूज करते हैं , यही माउस कहलाता है।

यह डिवाइस रियल के चूहे की तरह दिखाई देता है। इसे pointing device और इनपुट डिवाइस कहते हैं।

4:- कीबोर्ड : यह एक आयताकार बोर्ड होता है , जिस पर अल्फाबेट, नंबर्स, और कुछ चिन्ह दिए होते हैं। यह भी कम्प्यूटर की इनपुट डिवाइस है।

इसके हेल्प से हम कंप्यूटर पर टाइपिंग कर सकते है , साथ ही साथ यह माउस का भी काम आसानी से का एस सकता है।

5:- प्रिंटर: यह एक आउटपुट डिवाइस है। इसका काम कुछ फोटोकॉपी करने वाली मशीन की तरह होता है।

हमारे मॉनिटर में जो भी सूचना या इमेज हमे दिखाई देती है(सॉफ्ट कॉपी) उसे इस प्रिंटर के द्वारा ही पेपर में ( हार्ड कॉपी) छापा जा सकता है।

6:- यू.पी.एस ( U.P.S ): ( Uninterruptible Power Supply) यह एक ऐसा उपकरण है जो हमारे कंप्यूटर को लगातार विद्युत की सप्लाई करते रहता है।

यदि अचानक से पावर कट हो जाता है , तो यह हमारे कंप्यूटर को पावर देता रहता है। हालांकि यह 20- 40 मिनट तक की पावर सप्लाई कर सकती है।



कंप्यूटर चलाना सीखे ? | कंप्यूटर ऑन कैसे करें ?

हमारे बताए हुए कुछ स्टेप्स के जरिए , आप कंप्यूटर ऑन करना Or Computer Chalana Sikhe Or सीख सकते हैं , यह बहुत ही आसान है।

  • सबसे पहले मेन स्विच ऑन करना है , जो कि इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड में लगी रहती है।
  • यू.पी.एस  ( uninterruptible power supply) आॅन करें।
  • सीपीयू पावर बटन के द्वारा ऑन करें।
  • आप मॉनिटर में देखेंगे , कि आपका कंप्यूटर चालू हो चुका है।
  • जब भी कंप्यूटर चालू होता है तो उसे टाइम दीजिए।

अब आप अपना काम अपने कंप्यूटर में आराम से कर सकते हैं।


कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर इंस्टॉल कैसे करें ?

सॉफ्टवेयर इंस्टॉलकैसे करें Or Computer Chalana Sikhe , यह जानने से पहले हमें इस बात का ज्ञान होना आवश्यक है , कि सॉफ्टवेयर क्या होता है ?

कंप्यूटर दो चीजों से मिलकर बना होता है , सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर।

  • हार्डवेयर :- माउस , सीपीयू , स्क्रीन , प्रिंटर यह सभी हार्डवेयर हैं , हम इन्हें देख भी सकते हैं और टच भी कर सकते हैं।
  • सॉफ्टवेयर :- एंटीवायरस, मोबाइल और कंप्यूटर में चलने वाले गेम्स, ऑपरेटिंग सिस्टम- एंड्राइड, आईओएस, विंडोस, एमएस वर्ड, एमएस एक्सल, एमएस पावरप्वाइंट यह सभी सॉफ्टवेयर है। सॉफ्टवेयर को ना तो हम देख सकते हैं और ना ही हम छू सकते हैं।

इन उदाहरणों के बाद अब आपको यह बात समझ में आ ही गई होगी , कि सॉफ्टवेर प्रोग्राम होते हैं , जोकि किसी विशेष काम के लिए ही बनाए जाते हैं। यह जरूरी नहीं कि हर सॉफ्टवेयर को हर कोई यूज़ करें। अगर आप अभी हमारा यह पोस्ट पढ़ रहे हैं , तो आप भी 1 सॉफ्टवेयर की मदद से यह पोस्ट पढ़ रहे हैं।

सामान्य शब्दों में कहें तो हार्डवेयर कंप्यूटर का शरीर है , सॉफ्टवेयर कंप्यूटर का दिमाग।  सॉफ्टवेयर ही है , जिसके द्वारा हम कंप्यूटर को निर्देश देते हैं और वह हमारा काम करता है। कंप्यूटर पर किसी विशेष काम के लिए विशेष सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है।

जैसे: एक अकाउंटेंट को अपना अकाउंट का लेखा जोखा रखने के लिए टैली नामक सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होगी।

कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर इंस्टॉल कैसे करें ?

सॉफ्टवेयर को इंस्टॉल करने से पहले डाउनलोड करना होगा , उसके बाद हम सॉफ्टवेयर को इंस्टॉल कर सकेंगे | सॉफ्टवेयर Download & Install करने के लिए कुछ स्टेप्स नीचे दिए गए हैं , जिनको पढ़कर आप सॉफ्टवेयर आसानी से Download & Instal कर सकते हैं-

सॉफ्टवेयर डाउनलोड करने के 2 तरीके हैं-

  1. सॉफ्टवेयर के वेबसाइट पर जाकर सॉफ्टवेयर डाउनलोड करना।
  2. सीडी या डीवीडि के द्वारा सॉफ्टवेयर डाउनलोड करना।

1:- सॉफ्टवेयर के वेबसाइट पर जाकर सॉफ्टवेयर डाउनलोड करना

आज हम आपको सॉफ्टवेयर डाउनलोड कैसे करना है , ये तो बताने ही जा रहे हैं साथ है यह भी बताएंगे , कि आप किस साइट के जरिए बिल्कुल मुफ्त में सॉफ्टवेयर डाउनलोड कर सकते हैं

  • गूगल सर्च बार में गेट इंटो पीसी (get into pc)सर्च करें।
  • आपको इस वेबसाइट में सॉफ्टवेर, ऑपरेटिंग सिस्टम, 3 डी कार्ड, ग्राफिक डिजाइन, मल्टीमीडिया और भी बहुत से ऑप्शन मिलेंगे। जिन्हें आप बिल्कुल फ्री में डाउनलोड कर सकते हैं।
  • इन ऑप्शन के साथ ही आपको एक सर्च बार दिखेगा , जहां से आप अपनी पसंद का सॉफ्टवेयर सर्च कर के डाउनलोड कर सकते हैं।
  • सर्च बार में अपनी पसंद का सॉफ्टवेयर का नाम लिखे और गो पर क्लिक करें।
  • अब सॉफ्टवेयर्स के बहुत से वर्जन आपको दिखाई देंगे।
  • इनमें से किसी एक पर क्लिक करें।
  • क्लिक करते ही आपको अपने चुने हुए सॉफ्टवेयर का डिटेल्स दिखाई देगा।
  • डाउनलोड करके डाउनलोड के ऑप्शन पर जाएं और डाउनलोड पर क्लिक करें।
  • अब आपके सामने एक नया पेज ओपन होगा जहां पर क्लिक हियर टू प्रोसीड ( Click Here To Proceed ) लिखा होगा। उस पर क्लिक करें।
  • आपको डाउनलोड का ऑप्शन दिखाई देगा, सॉफ्टवेयर डाउनलोड करें।

मॉनिटर पर अब आपको एक नोटिफिकेशन बार दिखाई देगा , जहां से आप अपने सॉफ्टवेयर को किस ड्राइव में रखना चाहते हैं वह लिखें।

जब सॉफ्टवेयर डाउनलोड हो जाएगा , तो कंप्यूटर स्क्रीन पे सॉफ्टवेयर डाउनलोडेड का नोटिफिकेशन दिखेगा | अब डाउनलोड हो चुके सॉफ्टवेयर को अपने कंप्यूटर में इंस्टॉल करना है। प्रेस ओके बटन

अभी तक आपका सॉफ्टवेयर डाउनलोड हुआ है। हमे अभी इसे इंस्टॉल भी करना है।

कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर इंस्टॉल कैसे करें : सॉफ्टवेयर इंस्टॉल करने के लिए आपके कमप्यूटर में डाउनलोड हो चुके , सॉफ्टवेयर को ओपन करना है। आपको अपने चुने हुए ड्राई पर मिलेगा।

  • डाउनलोडिंग सॉफ्टवेयर पर माउस से डबल क्लिक करें।
  • अब आपको मॉनिटर स्क्रीन पर कुछ-कुछ निर्देश दिखाई दे रहे होंगे।
  • इन निर्देशों का पालन करें।
  • इंस्टॉल होने का प्रोसेस कर रहा है।
  • जब सॉफ्टवेयर कंप्यूटर में इंस्टॉल हो जाए , तो कंप्यूटर को एक बार रीस्टार्ट जरूर करें।
  • आपका सॉफ्टवेयर आपके कंप्यूटर में डाउनलोड हो चुका है।

2:- सीडी या डीवीडि के द्वारा सॉफ्टवेयर डाउनलोड करना

  • सबसे पहले सीडी को सीडी ड्राइव में इंसर्ट करें |
  • माय कंप्यूटर ( My Computer ) में जाकर सीडी डीवीडी के ऑप्शन पर क्लिक करें।
  • Install.exe या setup.exe फाइल पर डबल क्लिक करें।
  • स्क्रीन में कुछ निर्देश दिखाई देंगे उनको फॉलो करें।
  • ऐसा करते ही आपका Software Install होना शुरु हो जाएगा |

यदि आपने कंप्यूटर या पीसी में पासवर्ड डाल रखा है , तो स्क्रीन में पासवर्ड पूछने पर अपना पासवर्ड डालें फिर एंटर पर क्लिक करें। अब आपका प्रोग्राम इंस्टॉल होना शुरू हो जाएगा।

जब सॉफ्टवेयर इंस्टॉल हो जाएगा , तो इसका एक शॉर्टकट Key आपको अपने मॉनिटर स्क्रीन पर बना हुआ दिखाई देगा। इस short cut key पर डबल क्लिक करके , आप सॉफ्टवेयर यूज कर सकते हैं।


कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर को अनइनस्टॉल और डिलीट कैसे करें ?

सॉफ्टवेयर अनइनस्टॉल करें ( Computer Chalana Sikhe ): हमारे कंप्यूटर में ऐसे बहुत से प्रोग्राम , सॉफ्टवेयर होते जिनके हमें जरूरत नहीं होती है , जो हमारे कंप्यूटर का मेमोरी स्पेस के लिए बैठे रहते हैं। जिसकी वजह से हमारा कंप्यूटर स्लो हो जाता है। अब आप इन सॉफ्टवेयर को अनइंस्टॉल करना चाहते हैं, तो आप हमारे बताए हुए बेहद आसान तरीकों से सॉफ्टवेयर अनइंस्टॉल कर सकते हैं।

  • अपने कंप्यूटर पर स्टार्ट बटन पर क्लिक करें।
  • कंट्रोल पैनल पर क्लिक करें।
  • जैसे ही आप कंट्रोल पैनल पर क्लिक करेंगे, आपको अपने कंप्यूटर में प्रोग्राम लिखा हुआ दिखाई देगा।
  • प्रोग्राम्स के नीचे अनइनस्टॉल द प्रोग्राम ( Uninstall the Program ) दिखाई देगा।
  • अनइंस्टॉल द प्रोग्राम पर क्लिक करें।
  • अब एक नया पेज ओपन होगा , जिसमें आपके कंप्यूटर में जितने भी प्रोग्रामस , सॉफ्टवेयर डाउनलोड है उनकी लिस्ट आपको दिखाई देगी।
  • आपको जिस सॉफ्टवेयर को अन इंस्टॉल करना है , उसे सेलेक्ट करें।
  • कंप्यूटर मैं अनइंस्टॉल का ऑप्शन दिखाई देगा, जिस पर क्लिक करें।

अब आपके कंप्यूटर से सॉफ्टवेयर अनइंस्टॉल हो चुका है।


कंप्यूटर को बंद कैसे करें ?

कंप्यूटर स्विच ऑफ करना: कंप्यूटर को स्विच ऑफ करना, शट डाउन करना या टर्न ऑफ करना , इनका मतलब एक ही है।

कंप्यूटर को स्विच ऑफ करने से पहले इस बात का ध्यान रखें , कि आप जो भी काम कंप्यूटर में कर रहे हैं , वह सेव ( Save ) हुआ है या नहीं हुआ है। अगर वह सेव नहीं हुआ है , तो सबसे पहले उसे सेव कर लीजिए।

दूसरी बात आप जिस प्रोग्राम का प्रयोग कर रहे हैं , उसे भी कंप्यूटर बंद करने से पहले बंद कर दीजिए। यदि आपने सीपीयू में सीडी या डीवीडी इनशर्ट कर रखी है , तो कंप्यूटर लॉक करने से पहले उसकी एडमिट को भी बाहर निकाल लीजिए।

चलिए अब शुरू करते हैं , कंप्यूटर स्विच ऑफ करना :-

  • स्टार्ट बटन पर क्लिक करें।
  • शट डाउन बटन सेलेक्ट करें , अब आपका कंप्यूटर स्विच ऑफ हो जाएगा।

दोस्तों यह तो थी , कंप्यूटर से संबंधित सामान्य जानकारियां : Computer Chalana Sikhe , Computer In Hindi , Computer Me Software Dalana , Computer Off Karna , Etc. अगर आप किसी सॉफ्टवेयर के बारे में जानना चाहते हैं या Computer Chalana Sikhe Or Sikhna चाहते हैं तो आप यूट्यूब , बुक्स , क्लासेस की मदद से उस सॉफ्टवेयर को चलाना सीख सकते हैं।

हम उम्मीद करते हैं , कि आपको हमारा यह पोस्ट ( Computer Chalan Sikhe In Hindi ) जरूर पसंद आया होगा , अगर आपको हमारा यह पोस्ट पसंद आया , तो आप अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ जरूर शेयर करें।

Check Out Our Other Website:- Full Forms In Hindi, Paheliyaninhindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here