समास किसे कहते हैं, समास के कितने भेद हैं ? | Samas Kise Kahate Hain

0
20
Samas Kise Kahate Hain

Samas Kise Kahate Hain : आज हम हिन्दी व्याकरण के एक और विषय के बारे में जानेंगे – यह विषय है ‘ समास ‘। हिंदी व्याकरण में समास का शाब्दिक अर्थ – ” छोटा रूप ” होता है। तो आइए जानते हैं, समास किसे कहते हैं, इसके कितने भेद हैं?

समास किसे कहते हैं | Samas Kise Kahate Hain

समास वह प्रक्रिया है, जिसके द्वारा हिंदी में कम से कम शब्दों में अधिक से अधिक अर्थ प्रकट किया जाता है। या अगर सरल शब्दों में कहें, तो हिंदी व्याकरण में जब दो या दो से अधिक शब्दों से मिलकर जो नया और छोटा शब्द बनता है, उस शब्द को हिंदी में समास कहते हैं।

Samas Kise Kahate Hain के उदाहरण:-

  1. रसोई के लिए घर = रसोईघर
  2. नील और कमल = नील कमल
  3. कमल के समानचरण = चरण कमल
  4. घोड़े पर सवार = घुड़सवार
  5. राजा का पुत्र = राजपूत्र
  6. मूर्ति को बनाने वाला = मूर्तिकार
  7. देश का भक्त = देशभक्त
  8. हाथ की कड़ी = हथकड़ी
  9. राजा का महल = राज महल

ऊपर हमने Samas Kise Kahate Hain OR Samas Ki Paribhasha के बारे में जाना, अब समास के भेद ( Samas Ke Bhed ) के बारे में जानते हैं।


यह भी पढ़ें :- संधि किसे कहते हैं, संधि के भेद


समास के कितने भेद हैं ? | Samas Ke Bhed 

समास के कुल छह मुख्य भेद होते है।

  • अव्ययीभाव समास
  • तत्पुरुष समास
  • कर्मधारय समास
  • द्विगु समास
  • द्वन्द समास
  • बहुव्रीहि समास

1. अव्ययीभाव समास :- जिसमें प्रथम पद अव्यय होता है और उसका अर्थ प्रधान होता है, उसे हम अव्ययीभाव समास कहते हैं।

उदाहरण के लिए:-

  1. प्रतिवर्ष = हर वर्ष
  2. प्रतिदिन = प्रत्येक दिन
  3. प्रतिसप्ताह = हर सप्ताह
  4. यथा क्रम = क्रम के अनुसार
  5. आमरण = मृत्यु तक
  6. यथाशक्ति = शक्ति के अनुसार

2. तत्पुरुष समास :- इस समाज में दूसरा पद प्रधान होता है और यह कारक से जुड़ा समास होता है।

उदाहरण के लिए :-

  1. राह के लिए खर्च = राह खर्च
  2. देश के लिए भक्ति = देश भक्ति
  3. राजा का पुत्र = राजपूत्र
  4. राजा का महल = राज महल
  5. रथ चालक = रथ को चलाने वाला
  6. गौशाला = गौओं के लिए शाला

तत्पुरुष समास के यूं तो आठ भेद होते हैं परंतु विग्रह करने की वजह से कर्ता और संबोधन दो भेदों को छुपा कर रखा गया है। इसलिए विभक्तिओं के अनुसार तत्पुरुष समास के छह भेद हुए जो निम्न है :-

  • कर्म तत्पुरुष
  • करण तत्पुरुष
  • संप्रदान तत्पुरुष
  • अपादान तत्पुरुष
  • संबंध तत्पुरुष
  • अधिकरण तत्पुरुष

यह भी पढ़ें :- क्रिया किसे कहते हैं, क्रिया के भेद


3. कर्मधारय समास :- जिस समास का उत्तर पद प्रधान हो और जिस समास में विशेषण – विशेष्य और उपमेय – उपनाम से मिलकर बनते हैं, उसे हम कर्मधारय समास कहते हैं।

कर्मधारय समास के उदाहरण :-

  1. चंद्र मुख = चंद्रमा के समान मुख
  2. नवयुवक = नव है जो युवक
  3. महादेव = महान है जो देव
  4. चरण कमल = कमल के समान चरण
  5. पीतांबर = पीत है जो अंबर

कर्मधारय समास के पांच भी पाँच उपभेद होते हैं:-

  • विशेषणपूर्वपद कर्मधारय समास
  • विशेष्यपूर्वपद कर्मधारय समास
  • विशेषणोभयपद कर्मधारय समास
  • विशेष्य़ोभयपद कर्मधारय समास
  • विशेषण पूर्व पद कर्मधारय समास

4. द्विगु समास :- द्विगु समास वह समास है, जिसका पहला पद संख्यावाचक विशेषण होता है तथा समस्त पद किसी समूह या फिर किसी समाहार का बोध करता है।

द्विगु समास के उदाहरण :-

  1. चारपाई = चार पैरों का समूह
  2. दोराहा = दो राहों का समाहार
  3. नवरत्न = नौ रत्नों का समाहार
  4. चतुर्मुख = चार मुखो का समाहार
  5. त्रिभुवन = तीन भूवनों का समाहार
  6. तिरंगा = तीन रंगों का समूह
  7. अठन्नी = आठ आनों का समूह
  8. दुसुती = दो सूतो का समूह

5. द्वंद समास :- जिस समास में दोनों पद समानत: प्रधान होते हैं, उसे हम द्वंद समास कहते हैं।

उदाहरण के लिए :-

  1. अपना पराया = अपना और पराया
  2. देश विदेश = देश और विदेश
  3. भला बुरा = भला और बुरा
  4. छोटा बड़ा = छोटा और बड़ा
  5. आटा दाल = आटा और दाल
  6. सीता राम = सीता और राम

6. बहुव्रीहि समास :- वह समाज जिसमें दोनों पद में कोई पद प्रधान नहीं होता है तथा दोनों पद मिलकर किसी तीसरे पद की ओर संकेत करते हैं, उसे हम बहुव्रीहि समास कहते हैं।

उदाहरण के लिए :-

  1. मनोज = वह जो मन से जन्म लेता है कामदेव
  2. गजानन = वह जिसका आनन गज जैसा है गणेश
  3. पंचानन = वह जिसके पांच आनन है शिव
  4. सुग्रीव = वह जिसकी ग्रीवा सुंदर है वानर राज
  5. पीतांबर = वह जिसके पीत वस्त्र हैं श्री कृष्ण

बहुव्रीहि समाज के मुख्य रूप से तीन भेद होते हैं :-

  • समानाधिकरण बहुव्रिहि समास
  • व्याधिकरण बहुव्रीहि समास
  • सहाथक बहुव्रीहि समास

यह भी पढ़ें :- सर्वनाम किसे कहते हैं, सर्वनाम के भेद


For More Info Watch This:-  Samas Kise Kahate Hain OR Samas Ki Paribhasha

अंतिम विचार:

आज हमने समास के ऊपर सारी जानकारी देने का यथासंभव प्रयास किया है, जैसे कि : Samas Kise Kahate Hain, Samas Ke Bhed, Samas Ki Paribhasha.

Samas Wikipedia

अगर आपको यह लेख पसंद आए, तो कृपया इसे शेयर करें और अगर कोई कमी लग रही हो, तो कमेंट बॉक्स में कमेंट कर कर हमें जरूर बताएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here