Ayatul Kursi in Hindi Translation | आयतुल कुर्सी का मतलब हिंदी मे तर्जमे के साथ

0
230

Ayatul Kursi In Hindi

आयतुल कुर्सी क़ुरान की वह आयात है, जिस में अल्लाह पाक का मौजूद होना, हर बात को सुनना, हर चीज़ को देखना, और पूरी क़ायनात पर क़ाबू रखने के बारे में बताया गया है। आयातुल कुर्सी क़ुरान की सब से अहम आयत है।

आयतल को कुर्सी के बारे में कहा गया है, कि अगर कोई शख़्स इस आयत को फ़ज्र की नमाज़ के बाद पढ़ता है, तो उस शख़्स के लिए जन्नत के दरवाज़े खुल जाते हैं।

आयतल कुर्सी की एहमियत का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है, कि आयतल कुर्सी ( Ayatul Kursi In Hindi ) को एक चौथाई क़ुरान भी कहा जाता है।


Ayatul Kursi In Hindi | Ayatul Kursi Hindi Mein

बिसमिल्ला हिर रहमानिर रहीम

  • अल्लाहु ला इलाहा इल्लाहू

( अल्लाह पाक के अलावा और कोई ख़ुदा नहीं है )

  • अल हय्युल क़य्यूम

( बस एक वो ही है जो अमर है )

  • ला तअ’खुज़ुहू सिनतुव वला नौम

( न ही उस को कभी आलस आता है, न ही कभी नींद आती है )

  • लहू मा फिस सामावाति वमा फ़िल अर्ज़

( आसमान से ले कर ज़मीन तक हर एक बड़ी से बड़ी और छोटी से छोटी चीज़ उस ही कि है )

  • मन ज़ल लज़ी यश फ़ऊ इन्दहू इल्ला बि इजनिह

( कोई भी उस की इजाज़त लिए बिना उस की सिफ़ारिश नहीं कर सकता )

  • यअलमु मा बैना अयदी हिम वमा खल्फहुम

( वो उसे भी जनता है, जो आम इंसानों के सामने है और उसे भी देख सकता है, जिसे आम इंसान नहीं देख सकते )

  • वला युहीतूना बिशय इम मिन इल्मिही इल्ला बिमा शा..अ

( जो ज्ञान ख़ुद अल्लाह पाक इंसानों को देता है, उस ज्ञान के अलावा इंसान उस के ज्ञान का ज़रा भी अंदाज़ा नहीं लगा सकते )

  • वसिअ कुरसिय्यु हुस समावति वल अर्ज़

( ज़मीन से ले कर आसमान तक उस ही की हुक़ूमत चलती है )

  • वला यऊ दुहू हिफ्ज़ुहुमा

( वो ज़मीन और आसमान की हिफाज़त करने वाला है )

  • वहुवल अलिय्युल अज़ीम

( वह सब से ज़ियादा अज़ीम और बलंद है )


Ayatul Kursi Benefits | आयतुल कुर्सी की एहमियत | Ayatul Kursi In Hindi

हज़रत मोहम्मद मुस्तफ़ा स. अ. ने फ़रमाया है, कि आयतुल कुर्सी जो है, वो क़ुरान पाक की सब से अहम आयत है।

हज़रत अबू हुरैरा र.अ. बताते हैं, कि हज़रत मोहम्मद मुस्तफ़ा स. अ. ने बोला है, कि क़ुरान पाक में एक आयत है, जो कुरान पाक की सारी आयातों की सरदार है। जिस जगह पर भी आयतुल कुर्सी पढ़ी जाती है, शैतान वहाँ से भाग जाता है।


Ayatul Kursi In Hindi ( विस्तार में )

अल्लाह पाक के अलावा और कोई ख़ुदा नहीं है।

आयतुल कुर्सी में यह बात बताई गई है, कि बेशक अल्लाह पाक के अलावा कोई और ख़ुदा नहीं है ” वो ही है, जिस के बारे में सभी नबियों ने वलियों ने लोगों को बताया, कि असली ख़ुदा सिर्फ़ अल्लाह है।

वो ही है, जो हर चीज़ को पैदा कर सकता है , वो ही है, जो लोगों की रोज़ी रोटी चलाता है, हम सब उस के पैदा किये हुए इंसान हैं, हमें सिर्फ़ और सिर्फ़ उस ही कि इबादत करनी चाहिए, वो ही हमें मुश्किलों में से निकाल सकता है, वो ही हमारी हर ज़रूरत पूरी कर सकता है।

उसने इंसानों को सही रास्ता दिखाने के लिए दुनिया मे नबियों को और वलियों को भेजा है।

बस एक वो ही है जो अमर है।

” वह अमर है, ज़िंदा है और रहेंगे ” ज़िंदा का मतलब है, कि अल्लाह पाक अमर हैं, हमेशा ज़िंदा रहने वालें हैं, मौत से पाक हैं। ” अल्लाह पाक के अलावा हर चीज़ एक न एक दिन ख़त्म हो जाएगी “।

नोट:- कय्यूम अल्लाह पाक के लिए ही इस्तेमाल किया जा सकता है, कय्यूम किसी आम इंसान के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता, क्योंकि जब इंसान ख़ुद अपने वजूद में अल्लाह पाक की मोहताज हैं, तो वह किसी और चीज को तो क्या ही संभालेंगें।

इसलिए किसी भी इंसान के लिए ” कय्यूम ” लफ्ज़ का इस्तेमाल करना जाइज़ नहीं है। इसलिए अगर किसी इंसान का नाम अब्दुल कय्यूम हो तो उसे सिर्फ़ ” कय्यूम ” कह कर पुकारना ग़लत होगा। उसे हमेशा पूरे नाम मतलब ” अब्दुल कय्यूम ” कह कर ही पुकारना चाहिए।

ही उस को कभी आलस आता है, ही कभी नींद आती है|

बेशक अल्लाह पाक ही हैं, जो इस पूरी दुनिया को चला रहे हैं, इसलिए ऐसे में हम जैसे एक आम इंसान के दिमाग़ में ये बात आ सकती है, कि जब अल्लाह पाक पूरी दुनिया चला रहे हैं, तो क्या उनको भी कभी थकान होती होगी ?

क्या उन को भी कभी नींद आती होगी ? लेकिन हम जैसे कमअक़्ल और लाइल्म लोगों को इस आयत में बता दिया गया है, कि ए इंसान सुन ले अल्लाह पाक को अपने जैसा मत समझ अल्लाह पाक के लिए कोई काम मुश्किल नहीं है और वो नींद और आलस से पूरी तरह पाक हैं।

◆ आसमान से ले कर ज़मीन तक हर एक बड़ी से बड़ी और छोटी से छोटी चीज़ उस ही कि है।

” आसमान से ले कर ज़मीन तक हर एक बड़ी से बड़ी और छोटी से छोटी चीज़ आल्हा पाक ने बनाई है ” हर एक चीज़ पर सिर्फ़ और सिर्फ़ अल्लाह का हुक़्म चलता है।

कोई भी उस की इजाज़त लिए बिना उस की सिफ़ारिश नहीं कर सकता।

” कोई भी उस की इजाज़त लिए बिना उस की सिफ़ारिश नहीं कर सकता ” यह बात बता दी गयी है, कि सिर्फ़ अल्लाह पाक ही हैं, जो इस पूरी दुनिया के मालिक हैं |

उन से बढ़ कर या उन के ऊपर कोई नहीं है, तो उन से किसी भी बारे में सवाल जवाब करने का भी किसी को कोई हक़ नहीं है। अल्लाह पाक जो भी करेंगे वह बंदे के हक़ में बेशक बेहतर ही होगा इस लिए उन के हुक़्म पर कोई सवाल उठाने की कोई गुंजाइश नहीं बचती।

वो उसे भी जनता है, जो आम इंसानों के सामने है और उसे भी देख सकता है, जिसे आम इंसान नहीं देख सकते।

” अल्लाह पाक इंसान के आगे और पीछे की हर एक चीज़ को जानते हैं ” यहाँ पर आगे और पीछे का मतलब यह है, कि अल्लाह पाक इंसान के पैदा होने के पहले के भी सब हालात जानते हैं और पैदा होने के बाद के भी सब हालात जानते हैं।अल्लाह पाक उस के हर बंदे के बारे में हर एक चीज़ जानते हैं।

” आगे ” का एक मतलब यह भी हो सकता है, कि अल्लाह पाक उन चीज़ों के बारे में भी जानते हैं, जो इंसान के साथ होने वाली हैं और पीछे का यह मतलब यह भी हो सकता है, कि अल्लाह पाक उन हालातों के बारे में भी जानते हैं, जो हालात इंसान देख नहीं सकता। अल्लाह पाक इंसान के बारे में वह चीज़ें भी जानते हैं, जो इंसान ख़ुद कभी नहीं जान सकता।

जो ज्ञान ख़ुद अल्लाह पाक इंसानों को देते हैं, उस ज्ञान के अलावा इंसान अल्लाह के ज्ञान का ज़रा भी अंदाज़ा नहीं लगा सकता।

” इंसान के पास सिर्फ़ उतना ही ज्ञान हो सकता है, जितना अल्लाह पाक खुद इंसान को देना चाहें “। इस आयात में यह बताया गया है, कि पूरी दुनिया के कण कण में ज्ञान सिर्फ़ और सिर्फ़ अल्लाह पाक की ख़ुसूसी सिफ़त है, एक आम इंसान या कोई भी शह इस में भागीदार नहीं बन सकती “।

ज़मीन से ले कर आसमान तक उस ही की हुक़ूमत चलती है।

” सातों आसमान और ज़मीन हर जगह बस अल्लाह पाक की ही हक़ूमत चलती है। ” अल्लाह पाक उठने बैठने चलने फिरने और जगह या घर से पाक हैं, इस क़िस्म की आयत को अपने मामलात पर कयास न किया जाए, उसकी कैफियत व हकीकत का अंदाज़ा लगाना इंसानी अक़्ल से बाहर है। 

बरिवायत हज़रत अबुज़र गिफारी र. अ. ने इबने कसीर ने से यह किया है, कि उनहोंने हुजूर अकरम  मुहम्मद मुस्तफ़ा सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम से पूछा कि कुर्सी कैसी है ?

हुज़ूर मोहम्मद मुस्तफ़ा सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया मुझे क़सम है, उस अल्लाह पाक की, कि जिस के क़ब्ज़े में मेरी जान है, कि सातों आसमान और ज़मीने ऐसी लगती हैं, मानों एक बड़े मैदान में अंगूठी का छोटा सा  छल्ला डाल दिया जाए।

यह सातों ज़मीनें और सातों आसमान भी अगर फैला दिया जाएँ, तो भी अल्लाह पाक की कुर्सी के सामने एसे लगते हैं, जैसे एक छल्ला किसी मैदान में।

एक हदीस में यह भी आया है, कि सातों आसमान कुर्सी में एसे ही हैं, जैसे सात दिरहम ढ़ाल में । यह हदीस हज़रत इबने जरीर की एक मरफ़ू हदीस है।

अल्लाह पाक की कुर्सी जो है, वो इस क़दर तवील है, कि उस में सातों ज़मीन और सातों आसमान समाये हुए हैं।

वो ज़मीन और आसमान की हिफ़ाज़त करने वाला है।

अल्लाह पाक के लिए सातों आसमानों और ज़मीन की हिफाज़त करना मुश्किल नहीं है । क्योंकि बे शक इस दुनिया की हर शह अल्लाह पाक के बस में है।

◆ वह सब से ज़ियादा अज़ीम और बलंद है।

” वह सब से ज़ियादा अज़ीम और बलंद है ” मतलब अल्लाह पाक वह ज़ात है, जो सब से बलंद है, सब से ऊपर है, अब से बड़ी है, सब से अहम है, और सब से ज़ियादा अज़ीम है।

इस बात को समझने के बाद हर अक्लमंद इंसान यही कहगे, की बे-शक अल्लाह पाक ही हैं, जो सब से अज़ीम हैं और सब से बलंद हैं।


For More Info Watch This:


Conclusion:

हम ने इस आर्टिकल में आप को यह बताने कि कोशिश करी है, कि Ayatul Kursi In Hindi का क्या मतलब होता है।

हम उम्मीद करते हैं, आपको Ayatul kursi in hindi मतलब समझ आ गया होगा। अगर यह आर्टिकल आपको अच्छा लगा हो, तो अपने अपनों के साथ ज़रूर शेयर करे।

Paheliyan In Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here