CBI और CID क्या है सीबीआई और सीआईडी में अंतर जानिए

0
232
CBI Aur CID Kya Hai

CBI और CID क्या है सीबीआई और सीआईडी में अंतर :- अक्सर लोग CID और CBI को एक ही समझ बैठते हैं. उन्हें इन दोनों के बीच का अंतर नहीं पता होता हैं | अगर आप भी इन्ही लोगो में से एक हैं , तो हम आपके लिए इन दोनों जुड़ी पूरी जानकारी लेकर आए हैं, जिसकी मदद से आपको CBI और CID क्या है, ये पता लगेगा और सीआईडी और सीबीआई के बीच का अंतर भी पता लगेगा | तो यदि आप जानने के इच्छुक हैं तो हमारा ये आर्टिकल अंत तक पढ़े |


CBI और CID, दोनों ही हमारे देश की जांच एजेंसी हैं, जो अपराधिक मामले जैसे- चोरी, डकैती, मर्डर, हमला, आतंकवादी हमला, दंगे, आदि को सुलझाती हैं | फर्क बस इतना हैं, कि CID राज्य स्तर पर काम करती हैं और CBI देश-विदेश स्तर पर काम करती हैं |

हमने विस्तार में सीआईडी और सीबीआई के बीच का अंतर नीचे दिया हैं | यदि आपको सीआईडी और सीबीआई के बारे में आधिक जानकारी नहीं हैं, तो हमारा आर्टिकल पूरा पढ़े। हमारे इस आर्टिकल से आपको दोनों के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी।

CID क्या है | CID Kya Hai | CID Full Form In Hindi

CID की Full form ” Crime Investigation Department ” हैं। यह एक जांच agency हैं, जो अपराधिक मामलों की जांच केवल राज्य स्तर पर करती हैं। जिसका मतलब साफ़ हैं, कि अगर किसी भी राज्य के अंदर कोई भी अपराधिक घटना को अंजाम दिया जाता हैं | जैसे- चोरी, डकैती, मार-पीट, मर्डर, दंगे, अपहरण, आदि तो उनकी जांच करने की जिम्मेदारी CID को सौंपी जाएगी।

क्राइम इन्वेस्टीगेशन डिपार्टमेंट (CID) की स्थापना ब्रिटिश सरकार द्वारा अंग्रेजो के समय पुलिस की सिफारिश पर साल 1902 पर की हुई थी। यह एक तरह का ख़ुफ़िया पुलिस विभाग हैं, जो राज्य स्तर पर होता हैं। हर राज्य की अलग-अलग CID जांच agency होती हैं, जिसका पूरा कण्ट्रोल राज्य सरकार या फिर High कोर्ट के पास होता हैं।

यही दोनों तय करते हैं, कि कौन सा केस CID के पास जाएगा और कौन सा नहीं। यानि अगर किसी राज्य में कोई अपराधिक धटना होती हैं, तो सबसे पहले उसकी जांच पुलिस करेगी , फिर उसके बाद उस घटना की जांच करने के लिए और केस को जल्द से जल्द सुलझाने के लिए राज्य सरकार या High कोर्ट केस की जिम्मेदारी CID को सौंप देती हैं। CID में भर्ती होने के लिए सबसे पहले इच्छुक व्यक्ति को पुलिस में भर्ती होना पड़ता हैं फिर विशेष परिक्षण के बाद व्यक्ति CID के लिए सेलेक्ट होता हैं और CID में शामिल होता हैं।

CBI क्या है | CBI Kya Hai | CBI Full Form In Hindi

CBI की Full Form ” Central Bureau of Investigation ” होती हैं , जिसे हिंदी में ” केंद्रीय जांच ब्यूरो ” के नाम से भी जाना जाता हैं। जैसा कि आपको हमने ऊपर भी बताया हैं, कि हर देश की अपनी एक जांच एजेंसी होती हैं, जो हर तरह की अपराधिक मामलों की जाँच करती हैं। उसी तरह से CBI भारत देश की जांच agency हैं।

जब भी देश में कोई हत्या, घोटाला, भ्रष्टाचार जैसे मामले सामने आते हैं या फिर कोई और देश की सुरक्षा से समझोता करते हुए अपराध होता हैं, तो ” केंद्रीय जांच ब्यूरो ( CBI ) ” भारत सरकार की तरफ से इन मामलों की जाँच करती हैं।

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दे, कि केंद्रीय जांच ब्यूरो की स्थापना साल 1941 में हुई थी | यानी की भारत की आजादी से ठीक 6 साल पहले हुई थी। साल 1963 में इस एजेंसी को CBI यानी केंद्रीय जाँच ब्यूरो का नाम दिया गया था। जब भी भारत सरकार को कोई भी मामला जांच के लिए सीबीआई को सौंपना होता हैं, तो भारत सरकार को राज्य सरकार की भी रजामंदी लेनी होती हैं।

वैसे अगर राज्य सरकार चाहे, तो बिना उच्च न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय की सहमती लिए भी कोई भी मामला जांच के लिए सीबीआई को सौप सकती हैं। अगर कोई भी सीबीआई में भर्ती होने के लिए इच्छुक व्यक्ति होता हैं, तो इसके लिए सबसे पहले उसको एसएससी ( SSC ) की बोर्ड परीक्षा पास करनी होती हैं, फिर विशेष परिक्षण से गुजर कर उसका सिलेक्शन सीबीआई के लिए होता हैं।

क्या आप CID और CBI में अंतर जानते हैं | Difference Between CBI And CID In Hindi

आप सीबीआई और सीआईडी के बारे में बहुत कुछ तो अब तक जान गए होगे , जैसे कि CBI Full Form In Hindi , CID Full Form In Hindi, इनकी स्थापना और ये काम क्या-क्या करती हैं। तो चलिए, अब आपको इन दोनों के बीच के मुख्य अंतर बताते हैं।

सीआईडी ( CID )

सीबीआई ( CBI )

CID केवल राज्य स्तर पर काम कर सकती हैं।

जबकि सीबीआई के जांच के दायरे पूरे भारत और विदेश के अंदर आते हैं।

CID के पास जो भी अपराधिक मामले की जांच आती हैं, वो राज्य सरकार द्वारा सौपे जाते हैं।

जबकि सीबीआई जांच agency को जांच के लिए कोई भी मामला केंद्र सरकार और हाई कोर्ट, सर्वोच्च न्यायालय सौंपते हैं।

CID में शामिल होने के लिए इच्छुक व्यक्ति को पुलिस में भर्ती होना पड़ता हैं, फिर मुख्य परिक्षण के बाद CID में सिलेक्शन होता हैं।

लेकिन अगर कोई व्यक्ति सीबीआई में भर्ती होना चाहता हैं, तो उसको सबसे पहले एसएससी की मुख्य परीक्षा पास करनी होती हैं।

अगर कोई अपराधी देश के किसी राज्य में हैं, तो CID उसको पकड़ने के लिए जांच बैठा सकती हैं और अपना दायरा केवल राज्य तक ही रखती हैं।

अगर कोई अपराधी देश के बाहर भी चला जाये तो भी उसपर जांच सीबीआई कर सकती हैं। इसीलिए लोग CID की तुलना में सीबीआई पर ज्यादा भरोसा करते हैं।

निष्कर्ष:

दोस्तों, हम उम्मीद करते हैं, कि आपको CBI और CID क्या है ? के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। लेकिन अगर आपको कोई भी प्रश्न पूछना हैं, तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में अपना प्रश्न पूछ सकते हैं। हम आपके सवाल जल्द से जल्द हल करने की कोशिश करेंगे। आपको हमारा आर्टिकल कैसा लगा, ये बताना ना भूले और अपने दोस्तों, रिश्तेदारों के साथ शेयर करना ना भूले।

यह भी पढ़ें :- 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here