खांसी की दवा का नाम | Khasi ki dawa ka naam hindi

0
902
Khasi ki dawa ka naam hindi

खांसी की दवा का नाम | Khasi ki dawa ka naam hindi :- खांसी होना एक बहुत आम बात हैं। अक्सर मौसम बदलने के साथ-साथ हमे खांसी हो जाती हैं। जिन लोगो की इम्युनिटी बहुत कमजोर होती हैं। उन्हें अक्सर खांसी-बुखार, जुकाम जैसी बीमारी होती रहती हैं। जरा सा मौसम में बदलाव हुआ नहीं, उनका शरीर ये बदलाव झेल नहीं पाता हैं और उन्हें खांसी हो जाती हैं।

अगर आप खांसी का जल्द से जल्द इलाज़ नहीं करते हैं , तो वह फिर एक बड़ा रूप ले लेती हैं और बुखार तक हो जाता हैं। लेकिन अगर आपकी इम्युनिटी बहुत कमजोर हैं और आपको बहुत जल्दी ही खांसी, जुकाम और बुखार हो जाता हैं , तो आप रोजाना 4 तुलसी के पत्ते खाए और उसके बाद ऊपर से एक ग्लास पानी पी ले। फिर 30 मिनट तक कुछ ना खाएं। अगर आप ऐसा अपने जीवन में नियमित रूप से करेंगे , तो आपको अपनी जिंदगी में कभी बुखार या वायरल जैसी चीज़े नहीं होगी।

तुलसी मानव शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती हैं। जिससे शरीर बीमारीयों की जकड़ में कम आए और अगर फिर भी कोई बीमारी आ भी जाती हैं , तो शरीर उस बीमारी का डटकर सामना कर पाता हैं। वैसे तो खांसी , बुखार और जुकाम सर्दी में ज्यादा होते हैं , लेकिन ये रोग बेमौसम होना भी आम बात हैं। जिसकी वजह ठीक से शरीर की देखभाल ना करना और कमजोरी होती हैं।

आपने सुना होगा कि किसी को सुखी खांसी हो गई हैं। इसकी भी बहुत सी वजह होती हैं , लेकिन खांसी को ठीक करने के लिए खांसी की दवा लेनी ही पड़ती हैं। अगर खांसी का सही टाइम रहते इलाज़ ना किया जाए , तो ये शरीर में बहुत सी खतरनाक बीमारी भी पैदा कर सकते हैं। इसीलिए सही समय पर इसे ठीक करने के लिए दवाई ले लेनी चाहिए।

खांसी को ठीक करने के लिए कुछ ज्यादा मेहनत या फिर काफी लम्बा इलाज़ भी नहीं चलाना पड़ता हैं। हमने इस आर्टिकल में खांसी की अंग्रेजी दवा का नाम OR khasi ki dawa ka naam hindi दिए हैं। यदि आप खांसी को ठीक करने के दवाई के नाम जानना चाहते हैं , तो इस लेख को पूरा पढ़े।



खांसी क्यों होती हैं ? | खांसी की दवा का नाम | khasi ki dawa ka naam hindi 

इससे पहले हम Khasi ki dawa ka naam hindi जाने, चलिए सबसे पहले ये जान लेते हैं , कि आखिर खांसी क्यों होती हैं। इसके लिए हमने खांसी के लक्षण नीचे लिक दिए हैं। यदि आप भी खांसी के लक्षण जानना चाहते हैं , तो नीचे दिए गए पॉइंट ध्यान से पढ़े।

  • ज्यादातर खांसी मौसम में बदलाव आने से हती हैं। या फिर किसी वायरस या संक्रमण के कांटेक्ट में आने से होती हैं। जिसे शरीर झेल नहीं पाता हैं और हमे खांसी हो जाती हैं।
  • अगर आप ज्यादा तेल, चिकनाई, घी में बने हुए खाने का सेवन करते हैं और उसके ऊपर पानी पी ले , तो भी खांसी होने की बहुत संभावना होती हैं।
  • अक्सर जब जुकाम होता हैं , तो उसके बाद खांसी हो ही जाती हैं। और अगर इन दोनों का सही समय पर इलाज़ ना किया जाए , तो फिर बुखार भी हो जाता हैं। इसीलिए कहते हैं , कि खांसी का ठीक समय पर इलाज़ कर लेना चाहिए।
  • जब सर्दी होती हैं , तो हमे अपने शरीर को ढक कर रखना चाहिए , क्यूंकि अक्सर ठंडी हवा लगने से खांसी होने के सबसे ज्यादा संभावना होती हैं।
  • अगर आप बारिश में भीग जाये , तो गीले कपड़े ज्यादा टाइम तक ना पहन कर रखे। ऐसा करने से आपको सर्दी, जुकाम और खांसी होने के बहुत ज्यादा संभावना होती हैं।
  • पानी में ज्यादा देर तक ना रहे, अगर किसी व्यक्ति को खांसी हैं , तो उससे मुंह ढक कर खांसने के लिए कहे। ऐसे व्यक्ति के नजदीक भी मास्क पहनकर आए।

खांसी का इलाज़ | खांसी की दवा का नाम | khasi ki dawa ka naam hindi:

हमने इस आर्टिकल में खांसी के इलाज़ के लिए एलोपैथिक दवा और घरेलु नुस्खे, दोनों दिए हैं। कुछ लोग एलोपैथिक दवा को खाने से कतराते हैं , तो उनके लिए हमने घरेलू नुस्खे दिए हैं। अगर आप भी उन्ही में से एक हैं तो हमारे इस आर्टिकल Khasi ki dawa ka naam hindi के साथ बने रहे।

खांसी की अंग्रेजी दवा का नाम जानें ( khasi ki dawa ka naam hindi ):

हमने जो नीचे खांसी को ठीक करने के लिए अंग्रेजी दवा के नाम दिए हैं , ये दवाइयाँ खांसी के साथ-साथ सिरदर्द, शरीर में दर्द और दर्द, गले में खराश, sisinusitis से जुड़ी बीमारी को भी झट से ठीक करने में बहुत कारगर हैं।

  • Benzonatate (Benz)

अगर आपको बहुत ज्यादा खांसी हो रही हैं , तो Benzonatate (Benz) ले। ये खांसी को जड़ से खत्म कर देती हैं। इसके साथ-साथ अगर आपको सर दर्द और गले में खराश भी हैं , तो ये टेबलेट इन सबको भी ठीक करने में काफी असरदार हैं।

  • Aspirin

Asprin टेबलेट खांसी ठीक करने के लिए भारत में सबसे ज्यादा उपयोग की जाती हैं। इसके अलावा अगर किसी को जुकाम भी हो जाये , तो यही एक टेबलेट हैं , जो डॉक्टर सबसे पहले लेने की सलाह देते हैं। ये खांसी, सर्दी और जुकाम को जड़ से खत्म कर देती हैं।

  • Chlorpheniramine Medicine & Tablet

कुछ लोग ऐसे होते हैं , जिन्हें खांसी के साथ- साथ जुकाम भी हो जाता हैं। इसके साथ ही उनके शरीर में खुजली, नाक से पानी और आंख से बहुत ज्यादा पानी आने लगता हैं और हल्का सा बुखार भी होने लगता हैं। अगर आपको भी कुछ इसी प्रकार के लक्षण है , तो आपको Chlorpheniramine Medicine & Tablet लेनी चाहिए। आपको इससे बहुत आराम मिलेगा।

नोट:Chlorpheniramine Medicine & Tablet बाजार में Chlorpheniramine, Cadistin, Polaramine, Dexodil, Polaramine, Dexodil, Polaramine, Piriton, Dexchlorpheniramine – Sr, Polaramine के नाम से भी उपलब्ध हैं।इसके अलावा अगर किसी को मधुमक्खी कांट ले , तो भी ये दवाई मधुमक्खी के ढँक के जहर को खत्म करने के काम आती हैं
  • Chlorpheniramine- Hydrocodone- Pseudoephedrine

अगर आपको खांसी के साथ-साथ कफ भी आ रहा है और साथ में सांस लेने में भी दिक्कत हो रही हैं , तो ऐसे में आपको Chlorpheniramine- Hydrocodone- Pseudoephedrine टेबलेट लेनी चाहिए। वैसे ये नार्मल खासी को भी ठीक करने में बहुत असरदार हैं।

  • Colistimethate Injection

कुछ लोगो को परमानेंट खांसी रहती ही हैं या फिर उनको जरा से मौसम बदलने पर बहुत ज्यादा खांसी होती हैं , जो आसानी से दवाई लेने पर भी नहीं जाती हैं। ऐसे लोगो को दवाई लेने से पहले Colistimethate Injection लगवा लेना चाहिए। ये इंजेक्शन एंटीबायोटिक होने के साथ-साथ खांसी के उन सभी बैक्टीरिया को खत्म कर देता हैं , जो सर्दी खांसी करते हैं। ऐसे लोगो के लिए इंजेक्शन ही परमानेंट इलाज़ हैं , वरना वो चाहे कितनी भी दवाई खाएं, उनपर कोई भी असर नहीं होता हैं।

  • Crocie Cold & Flu Mex – Indian Tablet

Crocie Cold & Flu Mex दवाई खांसी खत्म करने के लिए भारत में रामबाण मानी जाती हैं। ये खांसी को तो खत्म करती ही हैं , इसके साथ-साथ कफ़, बुखार, बदनदर्द और सिरदर्द में भी बहुत आराम देती हैं।



खांसी की दवाई खरीदते वक्त कुछ जरुरी बातोँ का ध्यान रखे:

आपने आर्टिकल के उपरी भाग में खांसी की दवा का नाम जान ही लिया हैं। लेकिन जब भी आप खांसी की दवा मेडिकल स्टोर पर खरीदने जाये , तो कुछ जरुरी बात का ध्यान रखना चाहिए। हमने वे सभी जरुरी बात नीचे दे दी हैं। उन्हें ध्यान से पढ़े।

  • जब भी आप मेडिकल स्टोर पर खांसी की दवा लेने जाएं , तो अपने डॉक्टर या फिर मेडिकल स्टोर पर रहने व्यक्ति को अपनी खांसी के बारे में जरुर बता दे। ताकि वो सही दवा लेने की सलाह दे।
  • दवाई खरीदते वक्त उसकी expiry तिथि जरुर check कर ले।
  • दवाई लेते वक्त एकबार अपने गले का टेस्ट भी करवा ले।

खांसी को दूर करने के लिए आयुर्वेदिक उपचार ( khasi ki dawa ka naam hindi ):

अब बारी आती हैं , खांसी को खत्म करने के लिए आयुर्वेदिक उपचार जानने की। आयुर्वेदिक इलाज़ किसी बीमारी को जड़ से खत्म करने के लिए काफी असरदार होते हैं। ये बीमारी को जड़ से तो खत्म करते ही हैं , उसी के साथ-साथ वह बीमारी दुबारा शरीर में ना आए, ऐसा असर भी करते हैं। तो चलिए जानते हैं , आयुर्वेदिक उपचार खांसी को खत्म करने के!!!

  • हल्दी से दूर करे खांसी:

इस बात में कोई शक नहीं हैं , कि हल्दी सेहत के लिए कितनी फायदेमंद हैं। ये एंटीबायोटिक होने के साथ-साथ बहुत से असरदार गुणों से भरी हुई होती हैं। ये खाने में और लगाने में, दोनों में ही बहुत फायदेमंद होती हैं। हल्दी में कुछ ऐसे गुण होते हैं , जो खांसी को जड़ से खत्म करते हैं।

अगर आपको खांसी हो रही हैं , तो रात को सोने से पहले रोटी बनाने वाले तवे पर हल्दी को सेंककर दूध के साथ एक चम्मच ले। और ध्यान रहे, ये करने के बाद 2-3 घंटे तक पानी ना पिए। वरना ये साइड इफेक्ट्स भी कर सकती हैं। अगर आप ऐसा 3-4 दिन ता लगातार करेंगे , तो आपकी खांसी बिकुल ठीक हो जाएगी। इसके अलावा ये आपका खून भी साफ़ करेगी। जो दूसरी बीमारी को दूर करने के काम भी आता हैं।

  • अदरक और हल्दी की रामबाण दवा

अदरक और हल्दी के मिक्सचर को खांसी के लिए बिलकुल रामबाण माना जाता हैं। ये खांसी को बिलकुल ठीक कर देता हैं। जब भी आपको खांसी हो तो अदरक लेकर उसको पीस ले। अब उसका जूस अलग कर ले। इसमें थोड़ी हल्दी और शहद मिला ले। ये हल्दी की तरह कडवा भी नहीं लगेगा।

इस मिक्सचर रात को सोने से पहले लगातार 3-4 बार ले। यकीन मानिये, ये उपचार आपकी खांसी को ऐसे खत्म करेगा , जैसे आपको कभी खांसी थी ही नहीं। ये Nuska भारत के इतिहास में बहुत सालो से उपयोग होता आ रहा हैं।

  • खांसी के लिए Syrup

अगर आप बाजार से खांसी का सिरप नहीं लेना चाहते हैं , तो आप घर पर ही खांसी को ठीक करने के लिए आयुर्वेदिक सिरप बना सकते हैं , जिसके लिए आपको नींबू, दालचीनी और शहद की जरूरत पड़ेगी। तीनो सामग्री को सामन मात्रा में मिलाकर सुबह-शाम ले। आपकी खांसी छू-मन्त्र हो जाएगी।

  • Cough Gargle therapy

हमारे प्राचीन इतीहास से खांसी में नमक के पानी से कुल्ला करना काफी असरदार माना गया हैं। एक ग्लास पानी को गुन-गुना करके उसमे थोडा नमक मिला ले। अब इस पानी से कुल्ला करे। ऐसा करने से आपके गले का कफ़ कटेगा और आपको खांसी में आराम मिलेगा।



निष्कर्ष:

दोस्तों, ये थे खांसी की दवा का नाम OR khasi ki dawa ka naam hindi . हम उम्मीद करते हैं , कि आप खांसी होने पर इन दवाइयों का इस्तेमाल करेंगे। लेकिन ध्यान रहे, इन दवाइयों को लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरुर कर ले।

हमारे आर्टिकल पढने के लिए हमारी वेबसाइट से जुड़े रहे, हम आपको ऐसे ही रोजमर्रा की जिंदगी में होने वाई चीजों की जानकारी देते रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here