पेट दर्द की दवा | Pet Dard Ki Dawa

1
115
Pet Dard Ki Dawa

पेट दर्द की दवा | Pet Dard Ki Dawa

पेट दर्द की शिकायतें अक्सर लोगों को होती रहती है, यह एक आम तकलीफ है, जो कई लोगों को होती है।

पेट का दर्द जितना सामान्य है, उतना ही खतरनाक भी है। कभी-कभी से बड़ी समस्याएं भी उत्पन्न होती है, उदाहरण के रूप में पथरी, अपेंडिसाइट्स, अल्सर इत्यादि।

अगर किसी को पेट दर्द होता है, तो उसका किसी काम में ध्यान नहीं लगता, और उस इंसान को बेचैनी होती रहती है।

छोटे से दर्द से भी गंभीर तकलीफें हो सकती है, इसीलिए इस दर्द को कभी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। और उसे रोकने के लिए जल्द से जल्द कोई ट्रीटमेंट करना चाहिए।

पेट दर्द को रोकने के लिए वह किस प्रकार का दर्द है, या वह किस कारण से हुआ है, यह जानना जरूरी है, जिससे आपको जानकारी होगी, कि किस उपचार से वह दर्द कम हो जाएगा।


पेट दर्द के कारण 

पेट दर्द के कई कारण हो सकते हैं जैसे, अगर रात का बचा बासी खाना खाए, तो यह दर्द होने लगता है, या खाली पेट अधिक काम करने पर, या बाहर का खाना जैसे:- बर्गर, समोसा, कचोरी, पिज़्ज़ा, नूडल्स इत्यादि जंक फूड खाने से भी यह समस्या होती है।

महिलाओं के मेंसुरेशन के दौरान होने वाले क्रैंप्स की वजह से, खाना खाने के बाद ज्यादा रफ्तार से दौड़ने से, या सूखे मांस का सेवन करने से, अंकुरित दालों को ज्यादा खाने से, आवश्यकता से ज्यादा भोजन करने से, ज्यादा पानी पीने से, या गंदा पानी पीने से, ज्यादा तेल मिर्च मसाला वाला खाना खाने से इत्यादि कारणों से पेट दर्द हो सकता है।

यह सब सामान्य कारण है, इनके अलावा और भी कई कारण होते हैं, जैसे:- गैस की समस्या, किडनी स्टोन, एसिडिटी, हर्निया, इंटेस्टाइनल ऑब्स्ट्रक्शन, appendicitis, यूरिनरी ट्रैक्ट इनफेक्शन, या आई.बी.सी ( इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम ) इत्यादि।

अगर पेट में अचानक जलन या गुड़गुड़ाहट, खट्टी डकारें, बुखार, गैस होना, जी मचलना, उल्टी होना, पेट में सुई के चुभन का एहसास होना, भारी महसूस करना, पेट फूलना, इत्यादि जैसे लक्षण हो तो वह पेट मैं तकलीफ होने की वजह से होते हैं।


पेट दर्द के उपचार ( Pet Dard Ki Dawa )

इस दर्द को कुछ घरेलू उपाय करके भी ठीक किया जाता है, जिनमें से कुछ निम्नलिखित है।

1. हींग

पानी के साथ आधा छोटा चम्मच हींग को मिलाकर इसका पेस्ट बच्चों के नाभि के किनारे लगा देने से बच्चों को पेट में जल्दी आराम मिलता है।

2. काला नमक

सोंठ, होंगे, अजवाइन के साथ काले नमक को मिलाकर इसका चूर्ण बना ले, उसके बाद नाश्ते के समय अथवा रात के खाने के समय गुनगुने पानी के साथ का सेवन करने से पेट को राहत मिलती है।

3. पुदीना

पुदीने के रस को शहद, नींबू के रस, व पानी में मिलाकर पीने से भी पेट दर्द को राहत मिलती है।

4. लहसुन

थोड़े से लहसुन के रस को पानी के साथ मिलाकर सवेरे या शाम को 7 दिन तक पीने से दर्द को आराम मिलता है।

5. अदरक

थोड़ी सी सूखी अदरक को थोड़े हींग, सेंधा नमक, व काली मिर्च के पाउडर के साथ मिलाकर पेस्ट बना लें और उसके बाद उसे नाभि मैं गुनगुने पानी के साथ मिलाकर डाल दे, इससे पेट का दर्द बहुत जल्दी ठीक होने लगता है।

6. नीबु

काली मिर्च, सोंठ, चूर्ण, और पानी में निबु के रस को मिलाकर सुबह-शाम पीने से पेट जल्दी ठीक हो जाता है।

7. दही

दही में कुछ ऐसे बैक्टीरियल होते हैं, जो पाचन सुधारने में मदद करते हैं। अगर अपचन की तकलीफ ना हो तो दर्द से भी आराम मिलता है।

8. Hot water bag

इससे पेट की मांसपेशियों को राहत दिलाने में सहायता होती है, और पेट की ऐंठन से भी आराम मिलता है।


पेट दर्द की आयुर्वेदिक दवा ( Pet Dard Ki Ayurvedic Dawa OR Pet Dard Ki Dawa )

  • अगर आपको पेट के फूलने की तकलीफ हो तो हिंग्वाष्टक चूर्ण को सुबह शाम रात के खाने में आधा आधा छोटी चम्मच पानी के साथ लेना चाहिए। इससे दर्द कुछ ही घंटों में ठीक हो जाता है और पेट के फूलने की शिकायत से भी राहत मिलती है। यह पाउडर किसी भी आयुर्वेदिक स्टोर पर मिल जाता है।
  • अगर आपको आपका पेट भारी लगता है या पेट साफ होने में दिक्कत होती है तो रोज रात को आधा चम्मच पंच सकार चूर्ण को गुनगुने पानी के साथ पीने से यह शिकायत दूर हो जाती है। पंच सकार पाउडर भी किसी भी आयुर्वेदिक दुकान पर सरलता से मिल जाता है।
  • कामदुधा के रस को अविपत्तिकर अथवा मिक्ताशुक्ती के चूर्ण में रोज सुबह शाम खाली पेट, गुनगुने पानी में मिलाकर पी लेने से भी पेट की तकलीफ से जल्दी छुटकारा मिलता है।


रोज की दिनचर्या में कुछ बदलाव लेने से भी पेट दर्द को राहत मिलती है जैसे,

  • खाने में हमेशा हमेशा अधिक तेल से बनी चीजें नहीं खाना चाहिए।
  • रोजाना चाय या कॉफी का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • ज़्यादा देर तक अपने मोशन को रोककर नहीं रखना चाहिए।
  • रात के खाने में हल्की चीजें खानी चाहिए, क्योंकि यह चीजें पेट में आसानी से पच जाती है, और गैस नहीं बनने देती।
  • रात में जल्दी सोने की आदत बनानी चाहिए। ज्यादा देर तक जागने से गैस बन सकती है, जिससे कभी-कभी सीने अथवा पेट दर्द होने लगता है।
  • रोज व्यायाम करना चाहिए और उसके बाद तुरंत ही ज्यादा पानी नहीं पीना चाहिए।
  • रोज सुबह उठते ही एक गिलास गुनगुना पानी पीने से भी पेट अच्छी तरह साफ हो जाता है, और आपको पेट दर्द की शिकायत नहीं होती।
  • खाना खाने का एक निर्धारित समय तय करके, उसी समय खाने का सेवन करना चाहिए। ऐसा करने से खाना अच्छी तरह से पच जाता है।

अगर घरेलू उपाय करने से भी पेट दर्द सेराहत नहीं मिलती फिर ऐसे में Pet Dard Ki Dawa की सहायता लेनी चाहिए, निम्नलिखित कुछ दवाइयों के नाम है जो पेट दर्द पर जल्दी असर करती है।

  • Tavera m Tablet
  • Ranitidine
  • Simethicone
  • Meftal spas Tablet
  • Antacid
  • Clomin
  • Loperamide
  • Tramadol
  • Clidinium
  • Diclofenac

अगर पेट दर्द बहुत ज्यादा हो रहा है या लगातार काफी समय से हो रहा हो, तो ज्यादा देर स्वयं उपचार नहीं करना चाहिए। घरेलू नुस्खों व दवाइयों से भी आराम ना मिले तो डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए।

क्योंकि छोटी छोटी समस्या भी काफी गंभीर हो जाती है, इसीलिए वक्त की देरी नहीं करनी चाहिए। अगर कुछ समय तक खुद उपचार करने के बावजूद भी दर्द में आराम ना हो तो जल्द ही किसी उत्तम डॉक्टर को बता देना ही सही रहता है।


Pet Dard Ki Dawa Video In Hindi 


निष्कर्ष:-

आज का हमारा यह आर्टिकल जिसमें हमने पेट दर्द की दवा ( Pet Dard Ki Dawa ) और पेट दर्द के उपचार के बारे में संपूर्ण जानकारी आप तक पहुंचाई है।

मुझे पूरी उम्मीद है, कि हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी ( Pet Dard Ki Dawa ) आपको अच्छी लगी होगी। यदि किसी व्यक्ति को इस आर्टिकल से संबंधित कोई सवाल है। तो वह हमें कमेंट के माध्यम से बता सकता है।

1 COMMENT

  1. आपके द्वारा दी गई जानकारी बहुत ही महत्वपूण एवं उपयोगी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here