विशेषण किसे कहते हैं – Visheshan kise kahate hain

0
54
Visheshan kise kahate hain

विशेषण किसे कहते हैं – Visheshan kise kahate hain

आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे, कि विशेषण किसे कहते हैं ? विशेषण के कितने भेद हैं। क्यूंकि हिंदी व्याकरण को अच्छी तरह से समझने के लिए विशेषण को समझना बेहद जरूरी होता है, खासकर उन बच्चों के लिए जो हिंदी विषय में काफी कमजोर होते हैं।

हिंदी व्याकरण में अच्छे अंको से पास करने के लिए विद्यार्थियों को Visheshan kise kahate hain के बारे में सही ज्ञान होना बेहद जरूरी होता है और इसी वजह से हमने सोचा, कि क्यों ना आज हम विशेषण से जुड़े तमाम जानकारी उन विद्यार्थियों तक पहुंचाई जाए, जो इस विषय में काफी कमजोर है तथा जिन्हे इस जानकारी की बेहद आवश्यकता है।

हिंदी व्याकरण एक ऐसा विषय है, जिसे रट्टा मार कर कभी परीक्षा में पास नहीं हुआ जा सकता और यदि विद्यार्थी रट्टा मार कर पास हो भी जाए, तो उन्हें इस विषय के बारे में सही ज्ञान कभी नहीं हो पाएगा।

इसलिए इस विषय ( Visheshan kise kahate hain ) को अच्छी तरह से समझने की कोसिस करे। विद्यार्थियों से अनुरोध है, कि आज इस लेख के द्वारा विशेषण के बारे में जितनी भी महत्वपूर्ण जानकारियां दी जाए, उसे वह अच्छे से समझे।


विशेषण क्या है – Visheshan kise kahate hain

Visheshan kise kahate hain : वैसे शब्द जो संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताता हैं, उसे विशेषण कहते हैं | विशेषण शब्द का अर्थ होता है, किसी की विशेषता बताना।

आइए इसे उदाहरण द्वारा और अच्छी तरह से समझते हैं। जैसे :

  • राधा बहुत सुंदर है।
  • सोहन सुस्त लड़का नहीं है।
  • यह ट्रेन बहुत तेज चलती है।

इन वाक्यों में आए शब्द 0 सुंदर, सुस्त, तेज संज्ञा और सर्वनाम शब्दों की विशेषता बताता है। इसे और अच्छी तरह से समझने के लिए हम यहां कुछ और उदाहरण देते हैं, जैसे :

  • आज बहुत ज्यादा गर्मी है।

इस वाक्य में ” गर्मी ” शब्द संज्ञा है तथा उससे पहले जो शब्द आया है – ” ज्यादा ” यह संज्ञा शब्द की विशेषता बता रहा है। इसी को विशेषण कहते हैं। इसी तरह :

  • सोहन बहुत मेहनती है।

इस वाक्य में ” सोहन ” संज्ञा शब्द है तथा ” मेहनती ” संज्ञा शब्द यानी सोहन की विशेषता बता रहा है।



विशेषण के कितने भेद है – Visheshan Ke Bhed In Hindi

विशेषण के कुल आठ भेद होते हैं।

1 . गुणवाचक विशेषण

2 . परिमाणवाचक विशेषण

3 . संख्यावाचक विशेषण

4 . संकेतवाचक विशेषण

5 . संबंधवाचक विशेषण

6 . तुलनाबोधक विशेषण

7 . प्रश्न वाचक विशेषण

8 . व्यक्तिवाचक विशेषण


1 . गुणवाचक विशेषण किसे कहते हैं ?

वैसे शब्द जिससे किसी भी व्यक्ति या वस्तु के गुण आदि का बोध होता है, उसे गुणवाचक विशेषण कहते हैं। जैसे कि अच्छा, बुरा, कमजोर, छोटा, लंबा, काला आदि।

 इसे समझने के लिए और कुछ उदाहरण देते हैं। जैसे :-

  • राम एक अच्छा लड़का है।
  • वह खूबसूरत लड़की है।
  • यह इमारत लंबी है।
  • इस नदी का पानी खारा है।

इन वाक्यों में अच्छा, खूबसूरत, लंबी, खारा, इत्यादि शब्दों से किसी के गुण का पता चल रहा है | इसे ही गुणवाचक विशेषण कहते हैं।

2 . परिमाणवाचक विशेषण किसे कहते है ?

वैसे शब्द जिससे किसी वस्तु की मात्रा या परिमाण का बोध होता है, उसे परिमाणवाचक विशेषण कहते हैं। यहाँ इस बात का ध्यान रखना है, कि परिणाम वाचक विशेषण में किसी मात्रा या परिमाण का बोध होना है, ना की संख्या का। जैसे पूरा, थोड़ा, कुछ, अधिक, बहुत, पर्याप्त इत्यादि।

इसे समझाने के लिए कुछ उदाहरण देते हैं, जैसे :-

  • वह थोड़ा खाना खाती है।
  • मटका में पानी पूरा भरा हुआ है।
  • यह बहुत खूबसूरत है।
  • कुछ लड़के आज पढ़ने नहीं आए हैं।

ऊपर दिए गए वाक्यों में थोड़ा, पूरा, बहुत, कुछ इत्यादि वाक्य परिमाणवाचक विशेषण के उदाहरण है।

3 . संख्यावाचक विशेषण किसे कहते है ?

वैसे शब्द जो किसी व्यक्ति या वस्तु आने की संख्या क्रम का बोध कराता हो, उसे संख्यावाचक विशेषण कहते हैं। जैसे दो, चार, बीस इत्यादि।

इसे और अच्छी तरह से समझने के लिए हम यहां कुछ उदाहरण देते हैं, जैसे कि :

  • मीरा ने 2 मीटर कपड़ा लाया।
  • दिवाली के लिए 4 किलो लड्डू लेना है।
  • महेश के पास 2 लीटर दूध है।

ऊपर दिए गए वाक्यों में 2 मीटर, 4 किलो, 2 लीटर संख्या का बोध करा रहे हैं, इन्हें संख्यावाचक विशेषण कहते हैं।

4 . संकेतवाचक विशेषण किसे कहते हैं ?

वैसे शब्द जिसका इस्तेमाल व्यक्ति वस्तु या स्थान को सूचित व निर्देशित करने के लिए किया जाता है, उन्हें संकेतवाचक विशेषण कहते हैं। जैसी यह, वह, उसे इत्यादि।

इसे अच्छी तरह से समझने के लिए हम कुछ उदाहरण देते हैं, जैसे:

  • यह फोन मेरा है।
  • वह लड़की क्लास की टॉपर है।

इन वाक्यों में ” यह ” और ” वह ” किसी व्यक्ति तथा वस्तु की ओर इशारा कर रहा है। इसे ही संकेतवाचक विशेषण कहते हैं। ध्यान रहे संकेतवाचक विशेषण के साथ कभी भी संज्ञा शब्द का इस्तेमाल नहीं किया जाता है।

5 . संबंधवाचक विशेषण किसे कहते हैं ?

वैसे शब्द जो किसी व्यक्ति, वस्तु तथा स्थान के साथ अधिकार या संबंध का भाव व्यक्त करते हैं, उन्हें संबंधवाचक विशेषण कहा जाता है। यानी कि 2 वस्तु या व्यक्ति के बीच संबंध को प्रकट करना संबंधवाचक विशेषण कहलाता है। जैसे हमारा, उसका, इसका, आदि।

इसे और अच्छी तरह से समझते हैं, जैसे:

  • इसका रंग काला है।
  • उसकी मां बीमार है।

उपर दिए गए वाक्यो में इसका और  उसकी शब्द संबंध वाचक विशेषण को व्यक्त कर रहे हैं।

6 . तुलनाबोधक विशेषण किसे कहते है ?

जब किसी बात में दो या दो से अधिक व्यक्ति वस्तु या स्थान की तुलना की जाए तथा तुलना करने में जिन शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है, उन्हें तुलनाबोधक विशेषण कहते हैं। जैसे सबसे सुंदर, बहुत असरदार, विशालटं, अधिक गुणी आदी।

तुलनाबोधक विशेषण को अच्छी तरह से समझने के लिए हम यहां कुछ उदाहरण प्रस्तुत करते हैं ,जैसे :-

  • जिराफ सबसे लंबा जानवर है।
  • हाथी विशालतम प्राणियों की गिनती में आता है।
  • यह आयुर्वेदिक दवा बहुत असरदार है।

ऊपर दिए गए वाक्यों में सबसे लंबा, विशालतम, बहुत असरदार जैसे शब्द दूसरी वस्तु, प्राणी, स्थान तथा व्यक्ति की तुलना कर रहे हैं, इन्हें ही तुलनाबोधक विशेषण कहा जाता है।

7 . प्रश्नवाचक विशेषण किसे कहते है ?

वैसे वाक्य जो संज्ञा व सर्वनाम के साथ प्रयुक्त होकर प्रश्न पूछने का कार्य करते हैं, उन्हें प्रश्न वाचक विशेषण कहा जाता है। जैसे कब, क्या, कैसे, कहा, क्यों आदि।

प्रश्नवाचक विशेषण को समझने के लिए हम यहां कुछ उदाहरण प्रस्तुत करते हैं, जैसे :-

  • राधा दिल्ली कब जा रही है ?
  • क्या मुकेश भोजन के लिए घर आ रहा है?
  • यह किसकी पुस्तक है ?
  • तुम कौन हो ?

ऊपर दिए गए वाक्यों में – कब, क्या, किसकी, कौन आदि जैसे शब्द सवाल पूछने का कार्य कर रही है, अर्थात यह प्रश्नवाचक विशेषण कहलाएगा।

8 . व्यक्तिवाचक विशेषण किसे कहते है

वैसे शब्द जो वाक्य में संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताते हैं, उन्हें व्यक्तिवाचक विशेषण कहा जाता है | अर्थात व्यक्तिवाचक संज्ञा से बनी विशेषता को व्यक्तिवाचक विशेषण कहते हैं | जैसे बनारसी, अमेरिकन, ब्रिटिश, भारतीय, यूरोपियन, झारखंडी, बिहारी इत्यादि।

व्यक्तिवाचक विशेषण को हम कुछ उदाहरण द्वारा की तरह से समझ सकते हैं, जैसे कि :

  • सीमा पर बनारसी साड़ी खूब फब्ती है।
  • वह एक भारतीय सिपाही है।
  • भारतीय किसान बहुत मेहनती होते हैं।

ऊपर दिए गए वाक्यों में बनारसी, भारतीय, इत्यादि जैसे शब्द भारतीय, बनारस शब्द से बने हैं, जो व्यक्ति वाचक संज्ञा है | अतः इसी वजह से भारतीय और बनारस शब्द व्यक्तिवाचक विशेषण कहलाएंगे।



For More Watch This:


अंतिम शब्द :

मुझे उम्मीद है, कि आज का यह लेख – विशेषण क्या है और विशेषण के कितने भेद होते हैं ? (Visheshan kise kahate hain) आपको अच्छी तरह से समझ आ गया होगा।

लेकिन इससके बावजूद यदि आप विशेषण से संबंधित और अधिक जानकारी चाहते हैं, तो कमेंट करके जरूर बताएं। हम आपके सभी सवालों के जवाब जल्द से जल्द देने की पूरी कोशिश करेंगे।

इसके अलावा आपको यह लेख – Visheshan kise kahate hain काफी फायदेमंद लगा हो, तो इसे सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें। ताकि ज्यादा से ज्यादा विद्यार्थियों को विशेषण के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here